यमुना एक्सप्रेसवे भी बना ‘अग्निपथ’, अलीगढ़ में फूंकी चौकी; NCR में भी हिंसक विरोध

Share this post

नरेंद्र मोदी सरकार ने मंगलवार को सेना में बहाली के लिए ‘अग्निपथ’ योजना की घोषणा की थी। देश के कई राज्यों में इसका जमकर विरोध हो रहा है। बिहार-यूपी में इसका असर दिख रहा है।
नरेंद्र मोदी सरकार ने मंगलवार को सेना में बहाली के लिए ‘अग्निपथ’ योजना की घोषणा की थी। देश के कई राज्यों में इसका जमकर विरोध हो रहा है। बिहार और उत्तर प्रदेश में इसका सबसे अधिक असर देखने को मिल रहा है। इस बहाली योजना के खिलाफ प्रदर्शन आज भी जारी है। आंदोलनकारियों ने इसे तुरंत वापस लेने की मांग की है। सरकार इसके लिए फिलहाल तैयार नहीं दिख रही है। हालांकि, कल एक संसोधन जरूर किया गया। इस साल के लिए अधिकतम उम्र की सीमा को 21 साल से बढ़ाकर 23 साल कर दिया गया। आपको बता दें कि कई राजनीतिक दलों ने भी इस स्कीम को वापस लेने की मांग की है। अग्निपथ’ योजना को लेकर देश के अलग-अलग हिस्‍सों में मचे बवाल के बीच बेतिया में डिप्‍टी सीएम रेणु देवी के घर पर हमला हुआ है। इसके अलावा बिहार बीजेपी के अध्‍यक्ष संजय जायसवाल के घर पर भी हमला हुआ है। एक समाचार चैनल के मुताबिक उनके घर को जलाने की कोशिश की गई है। अग्निपथ’ भर्ती योजना के खिलाफ विरोध की लहर पश्चिम बंगाल पहुंच गई है। मीडिया जानकारी मिली है कि यहां सशस्त्र बलों के उम्मीदवारों ने रैलियां निकालीं और कई क्षेत्रों में ट्रेनों को अवरुद्ध कर दिया। पुलिस अधिकारियों ने कहा है कि हालांकि पथराव या आगजनी जैसी किसी हिंसक घटना की कोई खबर नहीं है। न ही कोई घायल नहीं हुआ।
अग्निपथ योजना को लेकर देश भर में चल रहे हिंसक आंदोलन के बीच आर्मी चीफ जनरल मनोज पांडे ने बताया है कि कब तक पहले अग्निवीर की भर्ती की जाएगी। उन्होंने कहा कि अगले दो दिनों में इसके लिए नोटिफिकेशन जारी कर दिया जाएगा।
अग्निपथ योजना के विरोध में विश्वविद्यालय परिसर में शुक्रवार को छात्र राजद के नेता और कार्यकर्ताओं ने प्रदर्शन किया। इस दौरान छात्र नेताओं ने केन्द्र सरकार के खिलाफ नारेबाजी की। छात्र बहुदेशीय प्रसाल से मारवाड़ी कॉलेज होते हुए तिलकामांझी विश्वविद्यालय तक पहुंचे। छात्रों ने जमकर प्रदर्शन किया और पुतला फूंका। प्रदर्शन का नेतृत्व छात्र राजद के विश्वविद्यालय अध्यक्ष दिलीप यादव कर रहे हैं।
देशभर के कई राज्यों में अग्निपथ योजना को लेकर युवाओं का गुस्सा बढ़ता जा रहा है। प्रदर्शनकारी युवा सरकार से इस योजना को वापस लेने का मांग कर रहे हैं। यूपी-बिहार में इसका सबसे ज्यादा असर दिख रहा है। वहीं दिल्ली के आईटीओं पर भी छात्र संगठन विरोध कर रहे हैं। इस प्रदर्शन की आंच से दिल्ली-एनसीआर भी अछूता नहीं है। इसी बीच गुरुग्राम जिला प्रशासन ने अग्निपथ के विरोध को ध्यान में रखते हुए पूरे जिले में धारा 144 लागू कर दिया है।
अग्निपथ योजना पर भारतीय सेनाध्यक्ष जनरल मनोज पांडे ने कहा, ”हमारी यूनिट्स अग्निपथ योजना को अपनाने के लिए पूरी तरह से तैयार और उत्सुक है। जहां तक मुझे लगता है कि युवाओं को इस योजना के बारे में अब तक पूरी जानकारी नहीं है।” उन्होंने कहा, ”एक बार युवा इस योजना के बारे में समझ जाएंगे, तब उन्हें विश्वास होगा कि यह योजना न सिर्फ युवाओ के लिए बल्कि राष्ट्र और तीनों भारतीय सेनाओं के लिए फायदेमंद है।”
सशस्त्र बलों में भर्ती के लिए सरकार ने नई ‘अग्निपथ’ योजना का ऐलान किया है। मौजूदा नीति में 20 साल के मुकाबले नए सैनिकों की भर्ती 4 साल के लिए की जाने की बात कही गई है। साथ ही इसके सेना में आने वाले ‘अग्निवीरों’ के लिए पेंशन की भी कोई व्यवस्था नहीं है। अब इसी के चलते देश भर में उम्मीदवार विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं। बहरहाल, एक बार इस मुद्दे को विस्तार से समझते हैं कि आखिर यह योजना क्या है और इसमें क्या-क्या बदलाव किए गए हैं।
दिल्ली में भी अग्निपथ योजना को लेकर युवाओं और छात्र संगठनों का विरोध प्रदर्शन शुरू हो गया है। आईटीओ परबड़ी संख्या में मौजूद प्रदर्शनकारी योजना के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे हैं। इसी बीच दिल्ली मेट्रो ने दिल्ली गेट और जामा मस्जिद मेट्रो स्टेशनों के सभी गेट बंद कर दिए हैं। इसकी जानकारी दिल्ली मेट्रो रेल कॉर्पोरेशन ने ट्वीट के जरिए दी। इससे पहले आईटीओ स्टेशन के भी सभी गेट बंद कर दिए गए थे।
अग्निपथ योजना का क्या है उद्देश्य?

1) सशस्त्र बलों की युवा छवि को बढ़ाना ताकि वे जोखिम लेने की बेहतर क्षमता के साथ हर समय अपने सर्वश्रेष्ठ युद्ध कौशल से लैस हों।

2) देश के तकनीकी संस्थानों का लाभ उठाते हुए उन्नत तकनीकी सीमाओं से लैस उभरती हुई आधुनिक तकनीकों का प्रभावी ढंग से उपयोग करने, उन्हें अपनाने और उनका उपयोग करने हेतु समाज से युवा प्रतिभाओं को आकर्षित करना। 

3) थोड़े समय के लिए वर्दी में राष्ट्र की सेवा करने के इच्छुक युवाओं को अवसर प्रदान करना।

4) युवाओं में सशस्त्र बलों के जोश, साहस, सौहार्द, प्रतिबद्धता और समूह की भावना को आत्मसात करना।

5) युवाओं को अनुशासन, जोश, प्रेरणा और कार्य-कुशलता जैसी योग्यताओं एवं गुणों से लैस करना ताकि वे हमारे लिए एक संपदा साबित हों।

रक्षाकर्मियों की भर्ती संबंधी केंद्र की नई ‘अग्निपथ’ योजना के खिलाफ युवाओं के आंदोलन को देखते हुए पूर्वोत्तर रेलवे, उत्तर मध्य रेलवे और उत्तर रेलवे ने कई ट्रेन को रद्द कर दिया है तथा कुछ को रोकना पड़ा है। युवाओं की हिंसा में उत्तर प्रदेश के बलिया में यार्ड में खड़ी ट्रेन के एक खाली डिब्बे में आग लगा दी गयी। पूर्वोत्तर रेलवे एनईआर के जनसंपर्क अधिकारी पंकज सिंह ने न्यूज एजेंसी पीटीआई को बताया कि, ”रेलवे स्टेशन के बाहर यार्ड में खड़ी एक ट्रेन के खाली डिब्बे में कुछ लोगों ने आग लगा दी, लेकिन आग पर तुरंत काबू पा लिया गया और ज्यादा नुकसान नहीं हुआ।”
बिहार के मोतिहारी में अग्निपथ के विरोध में घोड़ासहन स्टेशन पर भी हंगामा हुआ है। समस्तीपुर से रक्सौल जा रही 05525 सवारी गाड़ी को रोक दिया गया है। आंदोलनकारियों ने स्टेशन पर मामूली तोड़फोड़ की है। पुलिस के द्वारा समझाकर उन्हें स्टेशन से हटा दिया गया है। बाद में आंदोलनकारी छात्र रेलवे गुमटी पर पहुंच गये और रेल ट्रैक पर आगजनी कर वहीं जमे हैं। स्थानीय पुलिस रेलवे गुमटी से भी आंदोलनकारियों को हटाने के प्रयास में जुटी है।
अग्निपथ योजना पर जारी विरोध प्रदर्शन के खिलाफ हरियाणा में प्रशासन सख्त रवैया अपना रहा है। गुरुग्राम में धारा 144 लागू कर दी गई है। इस दौरान चार से ज्यादा लोगों के जुटने पर पाबंदी रहेगी।
सेना भर्ती को लेकर केंद्र सरकार द्वारा शुरू की गई अग्निपथ योजना को लेकर पूरे देश में युवाओं द्वारा विरोध प्रदर्शन किए जा रहे हैं। इसी बीच अग्निपथ योजना से नाराज सैकड़ों की संख्या में युवा राजस्थान के भरतपुर रेलवे स्टेशन पर पहुंच गए और जयपुर-आगरा रेलवे ट्रैक पर जाम लगा दिया। आक्रोशित युवाओं ने केंद्र सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी की।
रक्षा मंत्रालय की नई ‘अग्निपथ’ योजना के विरोध में शुक्रवार को सिकंदराबाद रेलवे स्टेशन पर गुस्साई भीड़ को नियंत्रित करने के लिए पुलिस द्वारा की गई गोलीबारी में एक व्यक्ति की मौत हो गई, जबकि आठ अन्य गंभीर रूप से घायल हो गए। घायलों को सिकंदराबाद के गांधी अस्पताल ले जाया गया। सेना भर्ती परीक्षाओं के इच्छुक सैकड़ों उम्मीदवारों ने तेलंगाना शहर के मुख्य रेलवे स्टेशन में तोड़फोड़ की। एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने कहा, “जीआरपी को लाठीचार्ज और आंसू गैस के गोले दागने के बाद गुस्साई भीड़ पर गोलियां चलाने के लिए मजबूर होना पड़ा।”
बिहार पुलिस ने कल आरा रेलवे स्टेशन पर तोड़फोड़, लूट और आगजनी मामले में 16 बदमाशों को गिरफ्तार किया है। 650 से अधिक अज्ञात लोगों पर मामला दर्ज किया गया है। आपको बता दें कि विरोध-प्रदर्शन का सबसे अधिक असर बिहार में ही दिख रहा है।
बिहार के आरा-बक्सर रेलखंड पर भोजपुर के बिहिया स्टेशन पर शुक्रवार की सुबह से बवाल जारी है। सिविल पुलिस और आरपीएफ पर पथराव किया गया। बिहिया के प्रभारी थानाध्यक्ष राम स्वरूप राम के पैर में चोट लगी है। स्टोर रूम को आग के हवाले कर दिया गया। पैनल के फोन का तार भी तोड़ दिया गया। ट्रैक के दर्जनों कलैंप खोले दिए गए हैं। इससे ट्रेनों का परिचालन बाधित हो गया है।

Report- Akanksha Dixit.

uv24news
Author: uv24news

+43
°
C
+45°
+37°
Delhi (National Capital Territory of India)
Wednesday, 30
Thursday
+44° +35°
Friday
+42° +35°
Saturday
+43° +34°
Sunday
+43° +35°
Monday
+44° +36°
Tuesday
+45° +36°
See 7-Day Forecast

 

Radio Live