मोदी बोले- पूरी दुनिया हमें उत्सुकता से देख रही है, यह जिज्ञासा बढ़ने वाली है

Share this post

प्रवासी भारतीय दिवस पर आयोजित कार्यक्रम में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि पूरी दुनिया आज भारत को रुचि और उत्सुकता से देख रही है। यह जिज्ञासा और बढ़ने वाली है। प्रवासी भारतीयों के पास अपने देश की अपडेटेड जानकारी होगी, तभी वह इन लोगों की जिज्ञासा को शांत कर सकेंगे। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि भारत ने पिछले आठ वर्षों में जिस तरह विकास किया है, वह अद्भुत है। पूरी दुनिया के लोग हमें उत्सुकता, रुचि और जिज्ञासा के साथ देख रहे हैं। यह जिज्ञासा और बढ़ने वाली है। इस साल हमारे पास जी20 देशों के समूह की अध्यक्षता है। पूरे देश में 200 से अधिक बैठकें होंगी। यानी 200 से अधिक प्रतिनिधिमंडल अलग-अलग शहरों में आएंगे। उन्हें यहां आने से पहले बताने की जिम्मेदारी प्रवासी भारतीयों की है कि उन्हें किस तरह का अपनत्व यहां मिलने वाला है। मोदी ने कहा कि आज जब हम अपने करोड़ों प्रवासी भारतीयों को ग्लोबल मैप पर देखते हैं तो कई तस्वीरें एक साथ उभरती है। उसमें वसुधैव कुटुंबकम के साक्षात दर्शन होते हैं। भारत के अलग-अलग प्रांतों, क्षेत्रों के लोग मिलते हैं तो एक भारत, श्रेष्ठ भारत का अनुभव होता है। अनुशासित नागरिकों की चर्चा होती है तो मदर ऑफ डेमोक्रेसी होने का भारतीय गौरव अनेक गुना बढ़ जाता है। जब हमारे इन प्रवासी भारतीयों के योगदान का विश्व आकलन करता है तो उसे सशक्त और समर्थ भारत इसकी आवाज सुनाई देती है। इसलिए ही तो मैं आप सभी को सभी प्रवासी भारतीयों को विदेशी धरती पर भारत का राष्ट्रदूत कहता हूं। डिप्लोमेटिक व्यवस्था में राजदूत होते हैं, लेकिन आप राष्ट्रदूत हैं। आप भारत के ब्रांड एम्बेसेडर है। यह भूमिका विविधतापूर्ण है। आप मेक इन इंडिया, योग और आयुर्वेद, कॉटेज इंडस्ट्री और हैंडीक्राफ्ट के ब्रांड एम्बेसडर हैं। आप भारत के मिलेट्स के ब्रांड एम्बेसेडर है। यूनाइटेड नेशंस ने इस साल को इंटरनेशनल ईयर ऑफ मिलेट्स घोषित किया है। आप यहां से मिलेट्स लेकर जरूर जाइए। मोदी ने कहा कि पूरी दुनिया में भारत के प्रति जिज्ञासा और बढ़ने वाली है। विदेश में रहने वाले भारतीय मूल के लोगों की जिम्मेदारी बहुत बढ़ जाती है। आपके पास भारत के बारे में जितनी व्यापक जानकारी होगी, उतना ही आप भारत के बढ़ते सामर्थ्य के बारे में बता पाएंगे। तथ्यों के आधार पर बता पाएंगे। इस वर्ष भारत जी-20 देशों के समूहों की अध्यक्षता कर रहा है। भारत इस जिम्मेदारी को बड़े अवसर के तौर पर देख रहा है। यह हमारे लिए दुनिया को भारत के बारे में बताने का अवसर है। जी20 को डिप्लोमेटिक नहीं बल्कि जनभागीदारी का आयोजन बनाना है। दुनिया के देश अतिथि देवो भव का दर्शन करेंगे। आप उन्हें यहां आने से पहले बता सकते हैं कि उन्हें भारत में किस तरह के अपनत्व का अनुभव होगा। जी20 समिट में 200 बैठकें होंगी। अलग-अलग शहरों में प्रतिनिधिमंडल जाएंगे। प्रवासी भारतीय उन्हें स्वदेश लौटने पर घर बुलाए। उनके अनुभव सुने। उनके साथ हमारे बंधन को और मजबूत करने का अवसर बन जाएगा मोदी ने कहा कि दुनियाभर में सदियों पहले गए भारतीयों की लाइफ, स्ट्रगल, अचीवमेंट्स को डॉक्युमेंट करना चाहिए। बुजुर्गों के पास उस जमाने की मेमोरीज होंगी। यूनिवर्सिटियों के माध्यम से हमारे डायस्पोरा की हिस्ट्री पर डॉक्युमेंटेशन के प्रयास किए जाए। कोई भी राष्ट्र, उस पर निष्ठा रखने वाले के दिल में जीवित रहता है। जब कोई भारत का व्यक्ति विदेश जाता है और वहां कोई भारतीय मिल जाता है तो उसे लगता है कि पूरा भारत मिल गया। आप जहां रहते हैं, भारत को अपने साथ रखते हैं। बीते आठ वर्षों में देश ने अपने डायस्पोरा को ताकत देने के लिए हरसंभव प्रयास किए हैं।

Report- Akanksha Dixit.

Akanksha Dixit
Author: Akanksha Dixit

+43
°
C
+45°
+37°
Delhi (National Capital Territory of India)
Wednesday, 30
Thursday
+44° +35°
Friday
+42° +35°
Saturday
+43° +34°
Sunday
+43° +35°
Monday
+44° +36°
Tuesday
+45° +36°
See 7-Day Forecast

 

Radio Live