आईएमए ने निलंबन पर उठाये सवाल, किस हैसियत से प्रोफेसर रैंक के डॉक्टर को निलंबित कर सकते हैं तेजस्वी ?

Share this post

इंडियन मेडिकल एसोसिएशन (IMA) के बिहार चैप्टर ने सोमवार को स्वास्थ्य मंत्री तेजस्वी यादव के एक प्रोफेसर-रैंक के डॉक्टर को निलंबित करने के अधिकार पर सवाल उठाते हुए कहा है कि निलंबन आदेश औचित्यहीन था। बीते दिनों NMCH के अधीक्षक के निलंबन मामले में इंडियन मेडिकल एसोसिएशन (IMA) के बिहार चैप्टर ने सोमवार को स्वास्थ्य मंत्री तेजस्वी यादव के एक प्रोफेसर-रैंक के डॉक्टर को निलंबित करने के अधिकार पर सवाल उठाया। IMA ने कहा कि जिसकी नियुक्ति का अधिकार मुख्यमंत्री था उसे स्वास्थ्यमंत्री कैसे हटा सकता है। आईएमए बिहार चैप्टर ने अब कानूनी तौर पर निलंबन को चुनौती देने का निर्णय लिया है। पटना के एनएमसीएच के चिकित्सा अधीक्षक डॉ बिनोद कुमार सिंह को अस्पताल में डेंगू रोगियों के प्रशासनिक प्रबंधन में कथित चूक के लिए पिछले शुक्रवार को निलंबित कर दिया गया था। उन्हें खुद का पक्ष रखने का मौका भी नहीं दिया गया था।
बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से न्याय की मांग करते हुए आईएमए ने कहा कि स्वास्थ्य मंत्री को बिहार सरकार के कार्यकारी व्यवसाय के नियमों को जानना चाहिए। तेजस्वी के पास उस मेडिकल प्रोफेसर को निलंबित करने का कोई अधिकार नहीं है, जिसकी नियुक्ति का अधिकार मुख्यमंत्री के पास है।
IMA बिहार चैप्टर के वरिष्ठ उपाध्यक्ष डॉ सुनील कुमार और सचिव डॉ अशोक कुमार ने कहा कि जल्दबाजी में, स्वास्थ्य विभाग यह भी भूल गया कि निलंबन पत्रों पर एक ओएसडी अधिकारी द्वारा हस्ताक्षर नहीं किए जा सकते हैं। आईएमए ने स्वास्थ्य मंत्री तेजस्वी यादव के पूर्व के बयान पर बिहार सरकार से एक श्वेत पत्र की भी मांग की। IMA ने कहा कि यदि 705 सरकारी डॉक्टर 12 साल तक अनुपस्थित रहे और सरकारी धन प्राप्त कर रहे हैं तो सरकार इस संबंध में सूचना उपलब्ध कराए।
आईएमए ने कहा कि यह विभाग के लिए बहुत शर्म की बात है कि तेजस्वी के अनुसार करीब 705 डॉक्टर लंबे समय से अनुपस्थित हैं और उनकी अनुपस्थिति की अवधि के लिए भी भुगतान किया जा रहा है। हमारे पास सबूत है कि उन डॉक्टरों में से ज्यादातर ने या तो तत्काल या कुछ समय बाद इस्तीफा दे दिया है। बिहार चैप्टर आईएमए द्वारा जारी की गई विज्ञप्ति में कहा गया है कि सरकार को मंत्री के बयान की पुष्टि करने वाला श्वेत पत्र लेकर आना चाहिए। आईएमए ने कहा कि स्वास्थ्य विभाग वर्षों से इस्तीफे पर कार्रवाई नहीं करने के लिए बदनाम है। स्वास्थ्य विभाग के दाहिने हाथ को ही नहीं पता होता है कि बायां हाथ क्या कर रहा है। IMA ने स्वास्थ्य मंत्री को विभाग में विभिन्न पदों की संख्या, कार्यरत डॉक्टरों की संख्या, रिक्तियों पर भी डेटा प्रस्तुत करने के लिए कहा है।

Report- Akanksha Dixit.

Akanksha Dixit
Author: Akanksha Dixit

+43
°
C
+45°
+37°
Delhi (National Capital Territory of India)
Wednesday, 30
Thursday
+44° +35°
Friday
+42° +35°
Saturday
+43° +34°
Sunday
+43° +35°
Monday
+44° +36°
Tuesday
+45° +36°
See 7-Day Forecast

 

Radio Live