धार्मिक भावनाओं के नाम पर मीट शॉप्स बंद लेकिन मोदी को गोश्त से पैसे कमाने में दिक्कत नहीं ओवैसी

Share this post

ओवैसी ने कहा कि संघी मुस्लिम पशु व्यापारियों पर हमला करते हैं। राज्य सरकारें गोमांस पर प्रतिबंध लगाती हैं। बूचड़खाने बंद कर देती हैं, लेकिन सरकार व्यापारियों को पैसा बनाने में मदद करना चाहती है। भारत से मांस का आयात फिर से शुरू करने के लिए बांग्लादेश से केंद्र सरकार ने अपील की है।  इन खबरों का हवाला देते हुए AIMIM प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी ने मोदी सरकार पर निशाना साधा है। रिपोर्ट के मुताबिक, ढाका में भारत के उच्चायोग ने बांग्लादेश के मत्स्य पालन और पशुधन मंत्रालय को एक पत्र भेजा है, जिसमें यह अपील की गई है। दरअसल, बांग्लादेश सरकार ने स्थानीय पशु किसानों के हित को देखते हुए भारत से फ्रोजेन मीट के आयात पर रोक लगा दी थी, विशेष रूप से भैंस के मांस के आयात पर। अब जब आयात फिर से शुरू करने की बात सामने आई है तो ओवैसी भड़क गए हैं। उन्होंने ट्वीट करके कहा, “धार्मिक भावनाओं के नाम पर मांस की दुकानें बंद हैं, लेकिन मोदी को गोश्त से पैसे कमाने में कोई दिक्कत नहीं है।
‘व्यापारियों को पैसा बनाने में मदद कर रही सरकार’ 
ओवैसी ने ट्वीट किया, “संघी लगातार मुस्लिम पशु व्यापारियों पर हमला करते हैं। राज्य सरकारें गोमांस पर प्रतिबंध लगाती हैं और यहां बूचड़खाने बंद कर देती हैं, लेकिन सरकार बड़े व्यापारियों को पैसा बनाने में मदद करना चाहती है।”
रिपोर्ट के मुताबिक, भारतीय उच्चायोग के पत्र में कहा गया है कि भारतीय निर्यातक और बांग्लादेशी आयातक संघ दोनों ने पिछले कुछ महीनों में इस मामले पर चिंता जताई है। दरअसल, आयात नीति में बदलाव के कारण पिछले कुछ महीनों में फ्रोजेन मीट का आयात नहीं हुआ है। मालूम हो कि भारतीय कंपनियां बांग्लादेश में उच्च गुणवत्ता वाले मांस के सबसे बड़े वैश्विक निर्यातकों में शामिल हैं।

Report- Akanksha Dixit.

uv24news
Author: uv24news

+43
°
C
+45°
+37°
Delhi (National Capital Territory of India)
Wednesday, 30
Thursday
+44° +35°
Friday
+42° +35°
Saturday
+43° +34°
Sunday
+43° +35°
Monday
+44° +36°
Tuesday
+45° +36°
See 7-Day Forecast

 

Radio Live