नेताजी को ISI एजेंट बताने वाले का समर्थन नामंजूर, राष्‍ट्रपति चुनाव के 40 घंटे पहले शिवपाल का नया दांव; अखिलेश यादव को लिखी खुली चिट्ठी

Share this post

शिवपाल सिंह यादव ने राष्‍ट्रपति चुनाव के 40 घंटे पहले एक नया सियासी दांव चलते हुए अखिलेश यादव को खुली चिट्ठी लिखी है। उन्‍होंने लिखा-‘नेताजी को आईएसआई एजेंट बताने वाले का समर्थन नामंजूर है।’
राष्‍ट्रपति चुनाव से 40 घंटे पहले प्रगतिशील समाजवादी पार्टी के अध्‍यक्ष और सपा के राष्‍ट्रीय अध्‍यक्ष अखिलेश यादव के चाचा शिवपाल सिंह यादव ने एक नया सियासी दांव चल दिया है। शिवपाल ने अखिलेश यादव को एक खुली चिट्ठी लिखी है। इस चिट्ठी में उन्‍होंने कहा है कि ‘नेताजी’ (सपा संरक्षक मुलायम सिंह यादव) को आईएसआई का एजेंट बताकर अपमानित करने वाले शख्‍स का समर्थन नामंजूर है।
अखिलेश के साथ-साथ एक तरह से पार्टी के सभी कार्यकर्ताओं को संदेश देने वाली शिवपाल की यह चिट्ठी तब सामने आई है जब राष्‍ट्रपति चुनाव में महज चंद घंटे बचे हैं। ऐसे में सवाल उठ रहा है कि क्‍या मुलायम को आईएसआई एजेंट बताने वाला यशवंत सिन्‍हा का बयान वर्षों बाद अब उन्‍हें नुकसान पहुंचा सकता है?
सपा की राजनीति को करीब से जानने वालों के मुताबिक अखिलेश यादव शायद ही चाचा शिवपाल की इस चिट्ठी का कोई जवाब दें या इसे ध्‍यान में रखते हुए अपना फैसला बदलें। यह बात शिवपाल भी जानते हैं लेकिन लगातार संकेतों की राजनीति कर रहे शिवपाल, अखिलेश को घेरने का एक और मौका छोड़ना नहीं चाहते थे। खुली चिट्ठी के जरिए उन्‍होंने पार्टी कैडर को संदेश देने का अपना काम कर लिया है।
बता दें कि हाल ही में उप मुख्‍यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य ने एक अखबार की पुरानी कतरन पोस्‍ट कर विपक्ष के राष्‍ट्रपति पद उम्‍मीदवार यशवंत सिन्‍हा एक पुराने बयान का हवाला देते हुए अखिलेश द्वारा उनका समर्थन किए जाने पर सवाल उठाया था। अब शिवपाल ने अपनी चिट्ठी को ट्विटर अकाउंट पर पोस्‍ट करते हुए लिखा- ‘सपा के वर्तमान नेतृत्व ने राष्ट्रपति चुनाव में उस व्यक्ति का समर्थन किया है, जिसने हम सभी के अभिभावक और प्रेरणा और ऊर्जा के स्रोत आदरणीय नेताजी को ‘आईएसआई’ का एजेंट बताया था। पार्टी नेतृत्व के इस फैसले के विरुद्ध मेरी घोर असहमति है। नेताजी के अपमान की शर्त पर कोई फैसला मंजूर नहीं।’
चिट्ठी में शिवपाल ने आगे लिखा यह नियति की अजीब विडम्‍बना है कि समाजवादी पार्टी ने राष्‍ट्रपति चुनाव में ऐसे व्‍यक्‍ति का समर्थन किया। दुर्भाग्‍यपूर्ण है कि समाजवादी पार्टी को राष्‍ट्रपति प्रत्‍याशी के तौर पर एक अदद समाजवादी विरासत वाला नाम न मिला। यह कहते हुए मुझे दु:ख और क्षोभ हो रहा है कि जो समाजवादी कभी नेताजी के अपमान पर आग बबूला हो जाते थे, आज उसी विरासत के लोग नेताजी को अपमानित करने वलो व्‍यक्ति का राष्‍ट्रपति चुनाव में समर्थन कर रहे हैं।
ऐसा लगने लगा है कि पूरी पार्टी मजाक का पात्र बनकर रह गई है। शिवपाल ने अंत में अखिलेश यादव को सम्‍बोधित करते हुए लिखा-‘प्रिय अखिलेश जी, मुझे अपनी सीमाएं पता हैं, आप समाजवादी पार्टी के अध्‍यक्ष हैं। ऐसे में मेरा सुझाव है कि उपरोक्‍त बिंदुओं के आलोक में अपने फैसले पर पुनर्विचार करें।

Report- Akanksha Dixit.

uv24news
Author: uv24news

+43
°
C
+45°
+37°
Delhi (National Capital Territory of India)
Wednesday, 30
Thursday
+44° +35°
Friday
+42° +35°
Saturday
+43° +34°
Sunday
+43° +35°
Monday
+44° +36°
Tuesday
+45° +36°
See 7-Day Forecast

 

Radio Live